आडवाणी के जन्मदिन पर घर पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी

NEW DELHI. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित पार्टी के कई नेताओं ने वीरवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को उनके 91वें जन्मदिन के अवसर पर शुभकामनाएं दीं। साथ ही राष्ट्रीय राजनीति, भाजपा को खड़ा करने एवं इसकी विचारधारा के प्रचार-प्रसार में उनके योगदान को याद किया।
  पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय राजनीति पर आडवाणी का बहुत अधिक प्रभाव है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विटर पर लिखा, भारत के विकास में आडवाणी जी का योगदान बहुत बड़ा है। मंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल की प्रशंसा भविष्योन्मुखी निर्णय लेने और जनपक्षधर नीतियों के लिए की जाती है। उनकी विद्वता की प्रशंसा सभी राजनीतिज्ञ करते हैं।  
 एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, पार्टी के वरिष्ठ नेता का भारतीय राजनीति पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है। उन्होंने नि:स्वार्थ भावना और सतत परिश्रम से भाजपा को खड़ा किया और आश्चर्यजनक रूप से कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया। 
   भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ट्वीट में कहा कि आडवाणी ने भाजपा के संगठन को मजबूत किया, इसके कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया और साथ ही उन्हें अनुशासन भी सिखाया। उन्होंने कहा कि जनसंघ से भाजपा तक हमारी विचारधारा को जन-जन तक पहुंचाने और संसद में एक कुशल राजनेता के तौर पर भारत को प्रगति पथ पर ले जाने में, भारतीय राजनीति में आडवाणी जी का योगदान अतुलनीय है।
   केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आडवाणी को भारतीय राजनीति का पितामह करार दिया। साथ ही कहा कि उन्होंने भाजपा की शुरुआत के वक्त से ही इसे सींचा है। आडवाणी जी पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं के लिए एक प्रेरणास्रोत हैं। ईश्वर उन्हें अच्छी सेहत और लंबी आयु प्रदान करे। आडवाणी का जन्म कराची (पाकिस्तान) में 1927 को हुआ था। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी आडवाणी के घर जाकर जन्म दिन की बधाईयां दी।  

PM ने बनारसी कार्यकर्ताओं में फूंका चुनावी मंत्र 

NEW DELHI.  मिशन-2019 को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने लोकसभा क्षेत्र वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से सीधी बात की। साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता समाज सेवक बनकर आम जनता के मध्य स्वास्थ्य सेवा की जागृति के लिए तत्पर रहें। वीडियो संवाद के जरिये हुई बातचीत में पीएम ने कार्यकर्ताओं का विभिन्न विषयों पर मार्गदर्शन किया। 
 इस मौके पर पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं से देश के लिए लोकतंत्र के सबसे बड़ा अधिकार के रूप में मतदान और मतदाता सूची के लिए जागरुकता अभियान चलाने का मार्गदर्शन किया। प्रधानमंत्री ने काशी की जनता आह्वान करते हुए कहा कि हर एक काशी वासी आगामी 15 सितंबर से 2 अक्टूबर तक चलने वाली स्वच्छता ही सेवा अभियान में शामिल हों। साथ ही  अगले वर्ष 21 जनवरी से 23 जनवरी के बीच वाराणसी में आयोजित होने जा रहे प्रवासी भारतीय दिवस समारोह को सफल बनाने में अपना योगदान दें। काशी की ऐतिहासिक, आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक पहचान को दुनिया के पटल पर प्रतिस्थापित करने के लिए संकल्पबद्ध हों। 
–कहा-हो जाएं तैयार, सकारात्मक चीजों का करें प्रचार 
–मतदान व मतदाता सूची के लिए चलाएं जागरुकता अभियान 
–स्वच्छता सेवा अभियान में शामिल हो काशी की जनता, आह्वान 
     पीएम ने इस मौके पर भाजपा कार्यकर्ताओं की लोक सेवा की भावना और नि:स्वार्थ कत्र्तव्यपरायणता की सराहना की। साथ ही कहा कि भारतीय जनता पार्टी की संस्कृति में पदभार उनकी व्यवस्था होती है और कार्यभार उनके संस्कार होते हैं। 
  इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि बनारस हिंदू अस्पताल (बीएचयू) को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था (एम्स) के स्तर पर विकसित किया जा रहा है, जो देश के सर्वोत्तम अस्पताल के रूप में विकसित होगा। साथ ही, वाराणसी में हेल्थ केयर सेंटर का भी निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में देश की कुल आबादी की 50 फीसदी जनसंख्या स्वास्थ्य बीमा से जुड़ेगी। उन्होंने कहा कि इस योजना से गरीब-से-गरीब व्यक्ति भी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से मुक्त हो सकेंगे।
   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रिवेंटिव हेल्थ केयर, टीकाकरण और स्वच्छता अभियान को और गति देने पर भी बल दिया। मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार के वन रैंक, वन पेंशन के फैसले से देश के लाखों सेना के जवानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि देश की सीमा की रक्षा में लगे सेना के जवानों, सुरक्षाबलों और उनके परिवारों के लिए चुनाव आयोग ने सर्विस वोटर रजिस्ट्रेशन का भी प्रावधान किया है।
       मोदी ने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से नकारात्मकता और देश एवं समाज का अहित करने वाली चीजों को फैलाने वालों को तवज्जो नहीं देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सकारात्मक चीजों के प्रोत्साहन और उसके प्रचार-प्रसार से ही समाज को ताकत मिल सकेगी।

सिख गुरूओं के बारे में कालेजों में हो चर्चा, बताएं क्या बलिदान दिया

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यहां कहा कि कालेजों में विभिन्न राज्यों के दिवस एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाना चाहिए।    मोदी ने कहा कि हमें रोबोट तैयार नहीं करने हैं, रचनात्मक प्रतिभा को आगे बढ़ाना है। इसके लिये विश्वविद्यालय के कैम्पस से अधिक अच्छी कोई जगह नहीं हो सकती है।   प्रधानमंत्री ने कहा कि लेकिन क्या हमने कभी यह विचार किया है कि हरियाण का कोई कालेज तमिल दिवस मनाये, पंजाब का कोई कालेज केरल दिवस मनाये। उन्हीं जैसा पहनावा पहने, भाषा के प्रयोग का प्रयास करे, हाथ से चावल खाये, उस क्षेत्र के खेल खेले।
       उन्होंने कहा कि कालेज में छात्र तमिल फिल्म देंखे। वहां के कुछ छात्रों को आमंत्रित करें और उनसे संवाद बनायें। इस प्रकार से हम शैक्षणिक संस्थाओं में मनाये जाने वाले दिवस को सार्थक रूप में मना सकते हैं। साथ ही एक भारत, श्रेष्ठ भारत को साकार कर सकते हैं।
–हरियाणा तमिल और पंजाब मनाए केरल दिवस 
–उन्हीं जैसा पहनावा पहने, भाषा के प्रयोग का प्रयास करे-मोदी
–हाथ से चावल खाये, उस क्षेत्र के खेल खेले
–कालेजों में सिख गुरूओं के बारे में चर्चा करें, बताएं सिख गुरूओं ने क्या बलिदान दिया 
 विज्ञान भवन में शिकागो में स्वामी विवेकानंद के भाषण की 125वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब तक हमारे मन में हर राज्य और हर भाषा के प्रति गौरव का भाव नहीं आयेगा तब तक अनेकता में एकता का भाव कैसे साकार होगा।  उन्होंने कहा कि हम कालेजों में सिख गुरूओं के बारे में चर्चा आयोजित कर सकते हैं, बता सकते हैं कि क्या क्या बलिदान दिया सिख गुरूओं ने। उन्होंने कहा कि रचनात्मकता के बिना ङ्क्षजदगी की सार्थकता नहीं हो सकती। हमें अपनी रचनात्मकता के जरिये देश की ताकत बनना चाहिए, आवश्यकताओं की पूॢत के लिये प्रयत्नशील होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने ज्ञान और कौशल को एक दूसरे से अलग किया था और आज पूरे विश्व में कौशल विकास को महत्व दिया जा रहा है। हमारी सरकार ने कौशल विकास को तवज्जो दी है।
      प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि वे कालेजों में छात्रों द्वारा मनाये जाने वाले रोज डे के विरोधी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि हमें रोबोट नहीं बनाने हैं बल्कि रचनात्मक प्रतिभा को बढ़ावा देना है। कालेजों में कई तरह के डे मनाये जाते हैं। आज रोज डे है, कल कुछ और डे है । कुछ लोगों के विचार इसके विरोधी हैं और ऐसे कुछ लोग यहां भी बैठे होंगे, लेकिन मैं इसका विरोधी नहीं हूं।

प्रधानमंत्री ने 7 राज्यों के सांसदों की बुलाई बैठक, पिलाई विकास की घुट्टी 

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली सहित 7 राज्यों से जुड़े सांसदों की बैठक बुलाई। अपने आवास पर ब्रेकफास्ट के बहाने प्रधानमंत्री ने सांसदों को जीएसटी के प्रचार-प्रसार और सरकारी योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए अमलीजामा पहनाने का सांसदों को निर्देश दिया। साथ ही प्रधानमंत्री ने चुनावी राज्य हिमाचल प्रदेश जैसे प्रमुख राज्यों के सांसदों से जमीनी फीडबैक भी लिया।
बैठक में पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के लगभग सभी लोकसभा एवं राज्यसभा सांसद मौजूद रहे।
 इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसदों से कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि वयस्क नागरिकों से जुड़ी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उन्हें मिल रहा है अथवा नहीं। इसके अलावा हिमालयी राज्यों में विकास की कई नयी योजनायें लागू की गयी हैं, जिससे लोगों के जीवन में गुणात्मक बदलाव आया है। इस सन्दर्भ में प्रधानमंत्री ने कहा कि पहाड़ी राज्यों में रोजगार एवं पर्यटन विकास के लिए बहुत बड़ी संभावनाएं उजागर हुई हैं।
——————————————–
–जीएसटी का प्रचार और सरकारी योजनाओं के विस्तार पर जोर
— दिल्ली, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के सांसद रहे मौजूद 
——————————————–
प्रधानमंत्री ने कहा कि हरियाणा और चंडीगढ़ केरोसीन-मुक्त होने से इसके आबंटन में हो रहा भ्रष्टाचार समाप्त हो गया है। उन्होंने यह भी कहा कि चंडीगढ़ और पुदुचेरी में पीडीएस सिस्टम बंद होने से गरीब लाभार्थी के खाते में पैसा सीधा जमा होता है।  उसे अपने आप बाजार से चीजें खरीदने का अधिकार मिला है। यह मॉडल अन्य प्रदेशों में भी लागू हो सकता है।
प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार की अनेक योजनाओं और कार्यक्रमों से जन-मन में इस सरकार के प्रति जो भरोसा बना है, उसे और अधिक व्यापक स्तर पर ले जाने के लिए मार्गदर्शन किया।
  बैठक का संचालन संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने किया।
  इस मौके पर भाजपा सांसदों ने फीडबैक के रूप में पीएम को कई जानकारियां भी दीं। इसमें कई राज्यों के सांसदों ने अपने प्रदेश में हो रहे विकास के विभिन्न पहलुओं के सन्दर्भ में कहा कि सरकार पर जनता का भरोसा लगातार बढ़ रहा है। साथ ही जीएसटी के बारे में, जनता में एवं छोटे व्यापारियों में भी अधिक उत्साह दिख रहा है। जीएसटी का बेनिफिट चैन बरकरार रहे, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए। पूरे देश में जीएसटी को अप्रत्याशित समर्थन और स्वीकृति मिल रही है।
इस मौके पर दिल्ली के सांसद एवं केंद्रीय मंत्री डा. हर्षवर्धन, मीनाक्षी लेखी, प्रवेश वर्मा, महेश गिरी, रमेश विधुड़ी, उदित राज मौजूद रहे। इसके अलावा हिमाचल कोटे से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा, शिमला के सांसद वीरेंद्र कश्यप, कांगड़ा के सांसद शांता कुमार, मंडी से रामस्वरूप शर्मा, हमीरपुर से अनुराग ठाकुर आदि मौजूद रहे। हरियाणा से सांसद एवं केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत, चौधरी वीरेंद्र कुमार, कृष्ण पाल गुज्र्जर सहित सभी सांसद। चंडीगढ़ की एक मात्र सांसद किरण खेर, पंजाब से श्वेत मलिक, विजय सांपला,उत्तराखंड के सभी सांसद मौजूद रहे।