पीएम मोदी आज 25 लाख चौकीदारों से होंगे रूबरू

NEW DELHI: भारतीय जनता पार्टी ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मैं भी चौकीदार हूं अभियान देश के करोड़ों लोगों का एक व्यापक जनान्दोलन बन गया है और इससे केवल उन लोगों को परेशानी हो रही है जो जमानत पर हैं और जिनकी पार्टी, परिवार एवं संपत्ति संकट में है। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मैं भी चौकीदार हूं, अभियान तीन दिन के अंदर व्यापक जनांदोलन बन गया है।

 

सोशल मीडिया पर यह एक दिन विश्वव्यापी ट्रेंड था जबकि भारत में दो दिन तक ट्रेंड चला है। प्रधानमंत्री मोदी के इस अभियान के समर्थन में 20 लाख लोगों ने ट्वीट किए और 1680 करोड़ इम्प्रेशन आए हैं। एक करोड़ लोगों ने संकल्प लिया है और इतने ही लोगों ने इस अभियान के वीडियो को देखा है। इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल बुधवार, 20 मार्च को सायं साढ़े चार बजे होली के शुभ अवसर पर ऑडियो ब्रिज के माध्यम से देश भर में लगभग 25 लाख चौकीदारों को संबोधित करेंगे एवं उनके साथ होली के रंग साझा करेंगे।

 

इसी क्रम में प्रधानमंत्री 31 मार्च को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये देश के लगभग 500 लोकेशन पर उन चौकीदारों से बात करेंगे जो मैं भी चौकीदार मूवमेंट से जुड़े हैं। इस कार्यक्रम में देश भर से पार्टी कार्यकर्ता, एनडीए के नेता, पार्टी पदाधिकारी, प्रोफेशनल्स, अनुसूचित जाति-जनजाति, भूतपूर्व सैनिक, खिलाड़ी के साथ ही अन्य क्षेत्रों से जुड़े हुए लोग भी इस कार्यक्रम से बड़ी संख्या में जुड़ेंगे।

 

भाजपा के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नेपथ्य में देश के विकास के प्रति समर्पित आम लोगों को पर्दे के पीछे से निकाल कर एक नए भारत के ध्वजवाहक के रूप में लाना चाहते हैं। यह ‘सबका साथ, सबका विकास की अवधारणा पर ‘अंत्योदय की दिशा में उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है। समाज के हर वर्गों से लोग मैं भी चौकीदार जन-आंदोलन से जुड़े हैं और लगातार जुड़ते चले जा रहे हैं।

 

प्रसाद ने कहा कि मैं भी चौकीदार भ्रष्टाचार-मुक्त सरकार के रूप में भारत के उभरते पहचान का सकारात्मक चित्रण है। आज हर देशवासी को गर्व है कि मोदी सरकार के इन पांच वर्षों में भारत हर इंडेक्स में आगे बढ़ा है चाहे वह इकॉनोमी हो, आईटी सेक्टर हो, ईज ऑफ़ डूइंग बिजनेस हो या फिर पॉवर्टी इंडेक्स। सोशल मीडिया और नमो एप के माध्यम से लगभग एक करोड़ लोगों ने प्लेज दिया कि मैं भी चौकीदार हूँ। लगभग एक करोड़ लोगों ने विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉम्र्स पर मैं भी चौकीदार वीडियो को देखा।

 

भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जो लोग बेल पर हैं, उन्हें मैं भी चौकीदार अभियान से परेशानी है। जिनकी पार्टी, परिवार और संपत्ति मुश्किल में है, उन्हें भी चौकीदार अभियान से परेशानी है। जो खुद और अपने पूरे परिवार सहित विभिन्न कानूनी कार्रवाइयां झेल रहे हैं, वे परेशान हैं और जिनके पास छिपाने के लिए बहुत कुछ है, वे इस जन-आंदोलन से परेशानी में हैं। उन्होंने कहा कि मैं ऐसे नेताओं और ऐसे लोगों से आग्रह करता हूँ कि यदि आपके पास कुछ भी छुपाने के लिए नहीं है तो आप भी मैं भी चौकीदार अभियान से जुड़ जाएँ।

 

उन्होंने कहा कि सुख, सुविधा और विलासिता में पैदा हुए कुछ लोग टिप्पणियाँ कर रहे हैं कि चौकीदार अमीरों के लिए होता है। जब कांग्रेस पार्टी की यूपीए सरकार 10 वर्षों तक सत्ता में थी तो गरीबों के लगभग 12 लाख करोड़ लूटे गए थे तो किसके लिए चौकीदार की आवश्यकता है, यह देश की जनता जानती है। रविशंकर प्रसाद ने भारतीय जनता पार्टी की ओर से देश के लोगों का अभिनंदन किया जिन्होंने करोड़ों की संख्या में इस जन-आंदोलन से जुड़ रहे हैं। कल राहुल गाँधी स्टार्ट-अप के लोगों से बात करने मान्यता टेक पार्क, बेंगलुरु गए थे जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समर्थन में नारे लगा रहे कुछ तकनीकी विशेषज्ञों कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने गिरफ्तार कर लिया। इससे राहुल गाँधी के विरोधाभासी चरित्र का पर्दाफ़ाश होता है।

 

ये वही राहुल गाँधी हैं जो जेएनयू में देश को टुकड़े-टुकड़े कर देने का ख़्वाब पाले बैठे गैंग के समर्थन में खड़े थे, आज तक उन्होंने अपनी गलती को स्वीकार नहीं किया है, वहीं दूसरी ओर जब आईटी प्रोफेशनल्स उनका विरोध करते हैं तो कांग्रेस-जेडीएस की सरकार उन्हें गिरफ्तार कर लेती है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गाँधी और उनकी बहन हर दिन बोलने की आजादी पर लंबी-चौड़ी बातें करते हैं, लेकिन वे स्वयं ही इसकी धज्जियां उड़ाते हैं। हमें नसीहतें देने के बजाय कांग्रेस पार्टी और राहुल गाँधी को खुद इस पर सीखने की जरूरत है।

गांधी का हिंदुस्तान चाहिए या गोडसे का हिंदुस्तान : राहुल गांधी

NEW DELHI: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को भाजपा एवं आरएसएस पर तीखा हमला बोला और कहा कि लोगों को तय करना है कि उन्हें महात्मा गांधी का हिंदुस्तान चाहिए या फिर गोडसे का हिंदुस्तान चाहिए। उन्होंने यह उम्मीद भी जताई कि इस लोकसभा चुनाव के बाद देश में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

 

पुलवामा आतंकी हमले की पृष्ठभूमि में कांग्रेस अध्यक्ष ने भाजपा पर तंज कसते हुए जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के लिए ‘जी’ शब्द कहा जिसको लेकर भाजपा ने उन पर निशाना साधा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए गांधी ने कहा, ‘पांच साल पहले देश में एक चौकीदार आया और कहा कि मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने आया हूँ, मेरा 56 इंच का सीना है। अब किसी से भी पूछ लीजिये चौकीदार क्या है? तो वह बता देगा कि चौकीदार चोर है।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कमाल है कि आप लोग देश के कोने-कोने में सच्चाई पहुंचा देते हो।

 

गांधी ने राफेल मामले का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और कहा, ‘हमने कुछ सवाल किए थे। चौकीदार संसद में डेढ़ घन्टे बोला, लेकिन अनिल अंबानी के बारे में नहीं बोला। प्रधानमंत्री आंख से आंख नहीं मिला पाए।’ उन्होंने कहा, ‘कुछ महीने पहले तीन प्रदेशों में चुनाव हुए। हमने वहां कहा कि मोदी जी ने झूठे वादे किए। हम आपसे झूठे वादे नहीं करेंगे और 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ किया। हमने दो दिन में यह काम कर दिया।’

 

पुलवामा हमले की पृष्ठभूमि में गांधी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ये 56 इंच की छाती वाले अपनी पिछली सरकार में मसूद अजहर जी के साथ बैठकर गए। अब जो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल हैं, वह मसूद अजहर को छोड़कर आए। भाजपा ने मसूद अजहर को जेल से छोड़ा।’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘हमने अपने दो प्रधानमंत्री (इंदिरा गांधी और राजीव गांधी) खोए। हम आतंकवाद से डरने वाले नहीं हैं।’’

 

उन्होंने कहा कि आप गांधी का हिंदुस्तान चाहते हैं या गोडसे का हिंदुस्तान चाहते है? एक तरफ प्यार है और दूसरी तरफ नफरत है। एक तरफ गांधी हैं जो अंग्रेजों से लड़े और जो सबसे प्यार करते थे। दूसरी तरफ सावरकर हैं जो अंग्रेजों को चिट्ठी लिखकर कहते हैं कि मुझे छोड़ दो।’’ गांधी ने दावा किया कि 2019 में कांग्रेस की सरकार आने वाली है।

 

हम निर्णय ले चुके हैं कि हम न्यूनतम आय गारंटी देंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने के साथ भारत रोजगार सृजन के मामले में चीन से स्पर्धा शुरू कर देगा। गांधी ने कहा कि उनकी सरकार बनने के बाद किसानों की समस्याओं के समाधान पर जोर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ विजेताओं से की बातचीत

NEW DELHI: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नारी शक्ति पुरस्कार प्राप्त करने वाली महिलाओं से शनिवार को बातचीत की और कहा कि उनका काम दूसरों के लिए एक प्रेरणा हैं। ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ महिलाओं के लिए सर्वोच्च नागरिक सम्मान है।

 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में शुक्रवार को आयोजित विशेष समारोह में तेजाब हमले की पीड़िता, भारत की प्रथम महिला मरीन पायलट और तीन संस्थानों को यह प्रतिष्ठित पुरस्कार प्रदान किया। प्रधानमंत्री ने शनिवार को उनसे मुलाकात की और उनकी उपलब्धियों के लिए उन्हें बधाई दी।

 

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक मोदी ने कहा कि उनका काम अन्य के लिए प्रेरणा है और उन्हें अपने क्षेत्र में और आगे बढऩे के लिए प्रेरित करेगा। इस मौके पर महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी भी मौजूद थीं।

 

महिलाओं की उपलब्धियों को मान्यता देने के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय नारी शक्ति पुरस्कार उन महिलाओं एवं संस्थानों को देता है जो महिला सशक्तिकरण एवं समाज कल्याण के लिए अनवरत प्रयासरत रहते हैं।

देश सुरक्षित हाथों में है, देश से ऊपर कुछ भी नहीं है : मोदी

NEW DELHI: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि देश सुरक्षित हाथों में है और देश से ऊपर कुछ भी नहीं है। नियंत्रण रेखा के पार आतंकी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई का जिक्र किए बिना मोदी ने ‘‘सौगंध मुझे इस मिट्टी की, मैं देश नहीं मिटने दूंगा… ’’ कविता पढ़ी और कहा कि उनके लिए खुद से बड़ा दल और दल से बड़ा देश है।

 

इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने राजस्थान की सरकार पर आरोप लगाया कि वह केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना और आयुष्मान भारत योजना में सहयोग नहीं कर रही है जिसकी वजह से इनका लाभ राज्य के किसानों और आम जनता को नहीं मिला। मोदी भारतीय वायु सेना द्वारा पाकिस्तान में, नियंत्रण रेखा के दूसरी ओर मंगलवार को तड़के आतंकी शिविरों के खिलाफ कार्रवाई के बाद अपनी पहली चुनावी जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

 

अपने भाषण की शुरुआत में मोदी ने मौजूदा जनसमूह के जोश को देखते हुए कहा, ‘‘आज आपका मिजाज कुछ और लग रहा है।’ इसके बाद उन्होंने भारत माता के जयकारे लगवाए और कहा, ‘‘आपकी ये भावनाएं, आपका ये उत्साह आपका ये जोश मैं भली भांति समझ रहा हूं। आज एक ऐसा पल है…, आओ हम सभी भारत के पराक्रमी वीरों को सिर झुकाकर नमन करें। आज चुरू की धरती से मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि देश सुरक्षित हाथों में है और देश से ऊपर कुछ भी नहीं है।’’

 

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘‘देश से बढ़कर कुछ नहीं होता। देश सर्वोपरि है।’’ मोदी ने अपने लगभग आधे घंटे के भाषण में सैन्य कार्रवाई का जिक्र तो नहीं किया लेकिन एक बार मुस्कुराते हुए जनता से कहा, ‘‘आज आपका मिजाज कुछ और ही लग रहा है।’’ इसके बाद उन्होंने यह कविता पढ़ी :

‘सौगंध मुझे इस मिट्टी की, मैं देश नहीं मिटने दूंगा ।’
‘मैं देश नहीं रुकने दूंगा, मैं देश नहीं झुकने दूंगा।’

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमें फिर से दोहराना है और खुद को याद दिलाना है। न हम भटकेंगे, न हम अटकेंगे, कुछ भी हो हम देश नहीं मिटने देंगे।’’ मोदी ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का कार्यान्वयन इसलिए कर सकी है क्योंकि ‘‘हमारे लिए खुद से बड़ा दल है और दल से भी बड़ा देश है। इसी भावना के साथ हम निरंतर देश के प्रत्येक जन की सेवा में लगे हुए हैं।’’ उन्होंने कहा ‘‘ देश से बढ़कर हमारे लिए कुछ नहीं है। देश की सेवा करने वालों को, देश के निर्माण में लगे हर व्यक्ति को आपका ये प्रधानसेवक नमन करता है।’’

 

‘वन रैंक वन पेंशन’ योजना के कार्यान्वयन का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘हमने शहीदों के परिवारों से, पूर्व सैनिकों से वन रैंक वन पैंशन को लागू करने का वादा किया था और मुझे खुशी है कि चूरू और राजस्थान के हजारों परिवारों सहित देश भर के 20 लाख से अधिक सैनिक परिवारों को वन रैंक वन पैंशन का लाभ मिल चुका हैं। इस योजना के लागू होने के बाद हमारी सरकार 35000 करोड़ रूपये फौजी परिवारों को वितरित कर चुकी है।’‘

 

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना और आयुष्मान भारत योजना सहित विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि ये बदला हुआ भारत है, जो नई रफ्तार से काम कर रहा है। उन्होंने कहा ‘‘मुझे इस बात का गर्व है कि पिछले साढ़े चार साल में गरीबों के लिए डेढ़ करोड़ से ज्यादा मकान बन चुके हैं। जब हमने पीएम किसान योजना की घोषणा की थी तो लोग कहते थे कि ये नहीं हो पाएगा, ये नामुमकिन है। लेकिन नामुमकिन अब मुमकिन है, क्योंकि ये मोदी सरकार है।’’

 

मोदी ने कहा, ‘‘गरीब का, किसान का, जवान का और नौजवान को सम्मान देने का प्रयास अगर संभव हो पा रहा है, तो इसके पीछे एक ही ताकत है। ये ताकत है आपकी, आपके एक वोट की। आपका ही वोट है जिसने 2014 में केंद्र में एक मजबूत सरकार बनाई थी, जिसका दम दुनिया आज देख रही है। अब आपका ही वोट मजबूर और कमजोर सरकार का सपना देखने वालों को जवाब देगा। अब आपका ही वोट मुझे और भाजपा को पहले से भी अधिक मजबूती देगा। यह मेरा विश्वास है।’’

 

इसके साथ ही मोदी ने अपने भाषण में राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना और आयुष्मान भारत योजना में राज्य सरकार सहयोग नहीं कर रही है जिसकी वजह से इनका लाभ राज्य के किसानों एवं आम जनता को नहीं मिला है। मोदी ने कहा कि दो दिन पहले शुरू हुई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से देशभर के एक करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खाते में दो हज़ार रुपए की पहली किस्त पहुंच गई है।

 

उन्होंने आगे कहा, ‘‘लेकिन दुख की बात यह है कि परसों जिन एक करोड़ से अधिक किसान परिवारों को मोदी सरकार की तरफ से सीधी मदद की पहली किस्त पहुंची, उनमें चुरू का, राजस्थान का एक भी किसान परिवार नहीं था। ऐसा इसलिए है क्योंकि यहां की सरकार ने अभी तक केंद्र सरकार को पात्र किसानों की सूची ही नहीं भेजी है।’’ मोदी ने कहा कि किसानों का कल्याण, देश के गरीब का कल्याण हमारी सरकार के प्राथमिकताओं में है। लेकिन जब उनसे जुड़ी योजनाओं पर भी राजनीति की जाती है तो दुख होता है।

 

इसके साथ ही मोदी ने आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए भी राज्य सरकार पर सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया। राजस्थान का चुरू उस शेखावाटी इलाके में आता है जहां से बड़ी संख्या में लोग देश की सेना और अन्य सैन्य बलों में हैं। सभा में बड़ी संख्या में लोग थे। सभा में पाकिस्तान के खिलाफ नारे भी लगे। केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष मदन लाल सैनी सहित अनेक प्रादेशिक नेता मंच पर मौजूद थे।

पुलवामा अटैक: अलगाववादी नेताओं से छीनी सुरक्षा

NEW DELHI: जम्मू-कश्मीर में मीरवाइज उमर फारुक समेत छह अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा रविवार को वापस ले ली गई। यह फैसला पुलवामा आतंकवादी हमले के मद्देनजर लिया गया है।अधिकारियों ने यहां बताया कि मीरवाइज के अलावा अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी, फजल हक कुरैशी एवं शबीर शाह को दी गई सुरक्षा वापस ले ली गई है। हालांकि आदेश में पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी का जिक्र नहीं है।

 

इन नेताओं को दी गई सुरक्षा को किसी श्रेणी में नहीं रखा गया था लेकिन राज्य सरकार ने कुछ आतंकवादी समूहों से उनके जीवन को खतरा होने के अंदेशे को देखते हुए केंद्र के साथ सलाह-मशविरा कर उन्हें खास सुरक्षा दी हुई थी। आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकियों ने 1990 में उमर के पिता मीरवाइज फारूक की तथा 2002 में अब्दुल गनी लोन की हत्या कर दी थी ।

 

पाकिस्तान समर्थक नेता सैयद अली शाह गिलानी एवं जेकेएलएफ के प्रमुख यासिन मलिक को कोई सुरक्षा नहीं दी गई थी। अधिकारियों ने बताया कि आदेश के मुताबिक अलगाववादियों को दी गई सुरक्षा एवं उपलब्ध कराए गए वाहन रविवार शाम तक वापस ले लिए जाएंगे। किसी भी बहाने से उन्हें या किसी भी अलगाववादी नेता को सुरक्षा या सुरक्षाकर्मी नहीं मुहैया कराए जाएंगे। अगर सरकार ने उन्हें किसी तरह की सुविधा दी है तो वह भी भविष्य में वापस ले ली जाएगी।

 

उन्होंने बताया कि पुलिस इस बात की समीक्षा करेगी कि अगर किसी अन्य अलगाववाजी के पास सुरक्षा या अन्य कोई सुविधा है तो उसे तत्काल वापस ले लिया जाएगा। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को श्रीनगर दौरे पर कहा था कि पाकिस्तान एवं उसकी जासूसी एजेंसी आईएसआई से निधि प्राप्त करने वाले लोगों को दी गई सुरक्षा की समीक्षा की जाएगी। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में हुए कायराना आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते हुए सिंह ने कहा था, च्च्जम्मू-कश्मीर में कुछ ऐसे तत्व हैं जिनके संपर्क आईएसआई एवं आतंकवादी संगठनों से है। उनको दी गई सुरक्षा की समीक्षा की जाएगी।

 

जम्मू-कश्मीर में बृहस्पतिवार को हुए अब तक के सबसे बड़े आतंकवादी हमले में से एक में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे । पाक स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से भरे वाहन से बल के एक वाहन को टक्कर मार दी थी। हुॢरयत के प्रवक्ता ने इस शासकीय आदेश को दुष्प्रचार करार दिया और कहा कि इसका कश्मीर विवाद या जमीनी स्थिति से कोई संबंध नहीं है और यह किसी भी तरह से सच को नहीं बदल सकता।

 

प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा, च्च्हुॢरयत के आवास पर इन पुलिसर्किमयों के होने या नहीं होने से स्थिति में कोई बदलाव नहीं होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि जब भी कोई मुद्दा बना है मीरवाइज ने जामिया मस्जिद के मंच से घोषणा की है कि सरकार सुरक्षा वापस ले सकती है। मीरवाइज कश्मीर घाटी के धर्मगुरुओं में से एक है। प्रवक्ता ने कहा कि हुॢरयत नेता ने कभी भी सुरक्षा नहीं मांगी है।

PM मोदी ने किया 3306 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास

NEW DELHI: प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने रविवार को झारखंड की अपनी 12वीं यात्रा में हजारीबाग से 3306 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से निर्मित तीन मेडिकल कालेजों, एवं रामगढ़ महिला इंजीनियरिंग कालेज के नवनिर्मित भवनों का उद्घाटन करने के साथ ही पांच सौ बिस्तरों वाले चार अस्पतालों की आधारशिला रखी। प्रधानमंत्री ने इसके साथ अनेक पेयजल परियोजनाओं के अलावा नमामि गंगे के तहत साहिबगंज के एक घाट का उद्घाटन भी किया।

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को यहां हजारीबाग के गांधी मैदान से आन लाइन इन परियोजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री आज दोपहर 2.50 बजे यहां पहुंचे और जनसभा को संबोधित किया। सभा के संबोधन से पहले उन्होंने हजारीबाग दुमका और पलामू में मेडिकल कॉलेज के 885 करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित भवनों का उद्घाटन किया जबकि रामगढ़ में महिला इंजीनियरिंग कॉलेज के नवनिर्मित भवन का भी उद्घाटन किया।

 

मोदी ने इसके अलावा 500 बिस्तरों वाले के चार अस्पतालों (हजारीबाग, दुमका, पलामू और जमशेदपुर) की आनलाइन आधारशिला भी रखी। इनकी लागत 1904 करोड़ रुपये होगी। प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रामीण पेय जलापूॢत योजना के तहत रामगढ़ की एक योजना तथा हजारीबाग की तीन पूर्ण योजनाओं का भी रविवार को उद्घाटन किया। मोदी इसी अवसर पर साहिबगंज सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट और नमामि गंगे योजना के तहत वहां मधुसूदन घाट का भी उद्घाटन किया।

 

प्रधानमंत्री ने 517 करोड़ रुपये की हजारीबाग के शहरी पाइप लाइन पेय जलापूर्ति योजना और रामगढ़ की दो ग्रामीण पेयजलापूॢत योजनाओं का भी शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने पीटीजी समुदाय (आदिम जनजातीय समुदाय) के लिए 2718 पाइप लाइन पेयजलापूॢत योजनाओं का भी शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने कई सिंचाई योजनाओं के सुदृढ़ीकरण योजना का भी शिलान्यास किया। उन्होंने हजारीबाग में आचार्य विनोबा भावे विश्वविद्यालय के जनजातीय अध्ययन केंद्र का भी शिलान्यास किया। इस अवसर पर ई-नाम के तहत किसानों को मोबाइल फोन खरीदने के लिये सीधे उनके खाते में राशि भेजे जाने की भी शुरुआत की।

 

प्रधानमंत्री ने ‘गिफ्ट मिल्क स्कीम’ के तहत सरकारी विद्यालयों में बच्चों को दूध के वितरण की शुरुआत की। प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभुकों का मोदी ने आज गृह प्रवेश भी कराया। कार्यक्रम के बाद लगभग सवा चार बजे प्रधानमंत्री हजारीबाग से रांची के लिए प्रस्थान कर गये। प्रधानमंत्री रांची में हवाई अड्डे के निकट आयुष्मान भारत के लाभुकों से मिलेंगे और उनका अनुभव जानेंगे। प्रधानमंत्री शाम को नई दिल्ली के लिए वापस प्रस्थान करेंगे।

देश का चौकीदार ‘प्योर’ है, चोर नहीं: राजनाथ सिंह

NEW DELHI: केंद्रीय गृह मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उनके द्वारा बार..बार निशाना साधने के लिए रविवार को हमला बोला और कहा कि देश का ‘‘चौकीदार प्योर है, चोर नहीं। सिंह ने उत्तर ओडिशा के भद्रक जिले के बाहरी इलाके में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी अपनी ईमानदारी, निष्ठा और प्रदर्शन’’ के चलते लोकसभा चुनाव के बाद भी प्रधानमंत्री के तौर पर कार्य करते रहेंगे।

 

सिंह ने गांधी द्वारा राफेल लड़ाकू विमान सौदे के संदर्भ में बार बार निशाना साधने की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘कोई भी प्रधानमंत्री के इरादे और निष्ठा पर सवाल नहीं उठा सकता। उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस प्रमुख कहते हैं ‘चौकीदार चोर है’ लेकिन उन्हें इसका एहसास होना चाहिए कि देश का चौकीदार चोर नहीं बल्कि प्योर है। उन्होंने गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस प्रमुख वर्तमान सरकार के प्रदर्शन पर टिप्पणी कर सकते हैं लेकिन उन्हें निराधार आरोप लगाने से परहेज करना चाहिए।

 

सिंह ने कहा, ‘‘वह (मोदी) निश्वित तौर पर फिर से प्रधानमंत्री बनेंगे, वह सभी समस्याओं के इलाज हैं।’’ उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दलों और नेताओं को प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के पद की गरिमा बरकरार रखनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन आपको (गांधी) कोई ङ्क्षचता नहीं…आप जो भी मन में आता है वह बोलते हैं। उन्होंने कांग्रेस पर राफेल सौदे के मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाना अनुचित है क्योंकि उनका कोई नहीं है जिसके लिए उन्हें पैसे की जरुरत हो।

 

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘मोदी जी किसके लिए पैसे एकत्रित करेंगे? उनका कोई परिवार नहीं है। सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि समाज और देश के विकास के लिए राजनीति में है। उन्होंने कहा, ‘‘हम देश को एक आॢथक शक्ति नहीं बनाना चाहते बल्कि एक ऐसा देश बनाना चाहते हैं जो आॢथक रूप से मजबूत हो और ज्ञान और विज्ञान में एक अगुआ हो। हम भारत को एक विश्व गुरु बनाना चाहते हैं। केवल भाजपा और आपके प्रधानमंत्री इसे प्राप्त करने में सक्षम हैं।

 

उन्होंने भाजपा का मजाक उड़ाने और उसे ‘‘राष्ट्रीय राजनीति में एक सीमित प्रभाव वाली पार्टी’’ बताने के लिए कांग्रेस नेताओं पर तीखा हमला बोला और कहा कि भाजपा जिसके किसी समय लोकसभा में दो सदस्य थे उसने कुछ वर्षों में अपनी ताकत का प्रदर्शन करते हुए पूर्ण बहुमत प्राप्त किया। उन्होंने कहा, ‘‘यदि (अटल बिहारी) वाजपेयी और (लालकृष्ण) आडवाणी ने भाजपा की प्रगति की नींव रखी थी और वह मोदी थे जिन्होंने उसकी गति को मजबूती दी और 2014 में पूर्ण बहुमत दिलाया।

 

सिंह ने प्रधानमंत्री के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए कहा कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश ने तेजी से प्रगति की है और देश 2030 तक विश्व के तीन शीर्ष देशों में शामिल होने की ओर अग्रसर है। उन्होंने पाकिस्तान को आड़े हाथ लेते हुए जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले के पीछे उसका हाथ होने का आरोप लगाया जिसमें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवान शहीद हो गए। सिंह ने दावा किया कि पड़ोसी देश ने यह जानने के बाद हमले में सहयोग दिया कि पिछले पांच वर्षों में भारतीय बलों के सफल अभियानों से आतंकवादी हताश हो गए हैं।

 

सिंह ने कहा, ‘‘आतंकवाद को संरक्षण देने वाले पाकिस्तान को यह अहसास हो गया कि पांच वर्षों में आतंकवादियों के खिलाफ हमारे सुरक्षा बलों के सफल अभियानों के चलते आतंकवादियों में हताशा और निराशा बढ़ गई है। इस सभा में मौजूद लोगों ने पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीद होने वाले सीआरपीएफ के 40 जवानों की याद में दो मिनट का मौन रखा।  उन्होंने कहा कि हमले का ‘‘करारा जवाब’’ देने के लिए सुरक्षा बलों को खुली छूट दे दी गई है। सीआरपीएफ का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

 

उन्होंने राज्य की बीजद सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में पिछले 19 वर्षों से एक स्थिर सरकार होने के बावजूद कोई विकास नहीं हुआ है। उन्होंने केंद्र की आयुष्मान भारत योजना को खारिज करने के लिए ओडि़शा सरकार को आड़े हाथ लिया और कहा कि भाजपा के सत्ता में आने पर ही राज्य का विकास संभव होगा।

16वीं लोकसभा में पीएम मोदी का आखिरी भाषण, राहुल पर साधा निशाना

NEW DELHI: 16वीं लोकसभा के आखिरी दिन पीएम मोदी ने लोकसभा में अंतिम भाषण दिया। इस दौरान सांसदों और संसद में किए गए कायों का भी उन्होंने जिक्र किया। पीएम ने हल्के-फुल्के अंदाज में विपक्ष पर चुटकियां लीं और कई सांसदों की तारीफ भी की। पीएम ने अपने भाषण में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की तारीफ की तो वहीं राहुल गांधी पर तंज भी कसा। मोदी ने सभी सांसदों के साथ मुलायम सिंह यादव को विशेष धन्यवाद भी दिया।

 

मेरे लिए सब नया था: पीएम
पीएम मोदी ने भाषण में कहा, ‘2014 में मैं उन सांसदों में से एक था, जो पहली बार चुनकर आए हैं। मैं यहां बिल्कुल नया था। करीब-करीब 3 दशक बाद पूर्ण बहुमत वाली और आजादी के बाद पहली बार पूर्ण बहुमत वाली गैर कांग्रेस सरकार 2014 में बनी थी। 2014 के बाद 8 सत्र ऐसे थे, जिनमें 100 प्रतिशत से ज्यादा कम हुआ है। 16वीं लोकसभा में हम हमेशा गर्व करेंगे कि देश में पहली बार सबसे ज्यादा महिलाएं चुनकर आईं। देश में पहली बार इस सरकार में सर्वाधिक महिला मंत्री हैं।’

 

राहुल पर चुटकी
पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा, ‘हम कभी-कभी सुनते थे कि भूकंप आएगा, लेकिन पांच साल में कभी भूकंप नहीं आया। कई बड़े-बड़े लोगों ने हवाई जहाज उड़ाए, लेकिन यह लोकतंत्र की ताकत है कि कोई भूकंप और हवाई जहाज उस ऊंचाई को छू नहीं पाया।’ पीएम ने कहा, ‘मैं पहली बार इस सदन में आया हूं तो कई चीजें मेरे लिए नई थीं। पहली बार मुझे पता चला कि गले मिलना और गले पड़ने में क्या अंतर है, पहली बार मैंने आंखों की गुस्ताखियां भी देखीं।’

 

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने संसद सत्र में अपने भाषण के बाद पीएम मोदी को गले लगाया था और उसके बाद उनके आंख मारने की घटना देश की मीडिया में चर्चा का विषय बन गई थी। अपने भाषण में पीएम मोदी ने टीडीपी सांसद की वेशभूषा का जिक्र भी किया। उन्होंने कहा कि कई बार हमारी टेंशन को टीडीपी के एक सांसद अपनी अटेंशन में बदल देते थे।

 

खड़गे की तारीफ
पीएम मोदी ने लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकर्जुन खड़गे की तारीफ करते हुए कहा, ‘मेरे भाषण को दाना पानी खड़गे जी से ही मिलता था। किसी समय आडवाणी जी सदन में पूरा समय बैठते थे, आज खड़गे जी भी पूरे समय सदन में होते हैं, हम सबको उनसे यह सीखना चाहिए। इस उम्र में भी उनकी ऊर्जा कम नहीं हुई है।’

 

‘विपक्ष ने भी दिया योगदान’
पीएम ने कहा, ‘आज मैं कोई उपलब्धि बताने नहीं आया हूं। लेकिन कई काम इस सदन ने किए हैं। विपक्ष में रहकर भी कई सांसदों ने इसमें अपना योगदान दिया है। हम सबके लिए खुशी की बात है कि आज देश छठे नंबर की अर्थव्यवस्था बन गया है। आज भारत का अपना आत्मविश्वास बेहद बड़ा है। आज विश्व की सभी प्रतिष्ठित संस्थाएं भारत के उज्ज्वल भविष्य के संबंध में अपनी संभावनाएं बताती हैं।’

 

पूर्ण बहुमत की सरकार का जलवा अलग
पीएम मोदी ने कहा कि लोग कहते हैं कि मोदी और सुषमा जी के कार्यकाल में दुनिया में भारत की इज्जत बढ़ी है। जबकि इसका कारण मोदी और सुषमा जी नहीं हैं। पीएम ने कहा, ‘दुनिया में भारत की इज्ज्त बढ़ी है क्योंकि यहां पूर्ण बहुमत वाली सरकार है। पूर्ण बहुमत वाली सरकार का दुनिया में असर ज्यादा होता है। उसका यश मोदी और सुषमा जी को नहीं जाता है, बल्कि 2014 के जनता के निर्णय को जाता है।’

 

दुनिया में हुआ नाम
पीएम ने कहा कि पिछले पांच साल में मानवता के काम में भारत ने बड़ी भूमिका अदा की। नेपाल के भूकंप हो या दुनिया में कहीं भी कोई ऐसा संकट, हमने आगे बढ़कर मदद की पेशकश की है। उन्होंने कहा, ‘यूएन में सबसे ज्यादा समर्थन से योग का रेजॉलूशन पास हुआ। यूएन में बाबा साहेब और महात्मा गांधी पर कार्यक्रम हुए हैं। गांधी जी के वैष्णव जन गीत को दुनिया भर के महान गायकों ने गाया है। हम विश्व में एक सॉफ्ट पावर के तौर पर भी उभरे हैं।’

 

219 में से 203 बिल पास हुए
पीएम ने कहा, ‘काम काज के लिहाज से भी यह कार्यकाल काफी अच्छा रहा। इस कार्यकाल में 219 बिल पेश हुए और 203 बिल पास हुए हैं। जब भी सदन के सदस्य जब भी इस कार्यकाल का जिक्र करेंगे तो बताएंगे कि वे उस कार्यकाल में सदस्य थे, जब कालेधन के कानून बने। इसी सदन ने शत्रू संपत्ति बिल पारित करके कई घावों को भरा है।’

 

पीएम ने कहा कि उच्च वर्ग के गरीब लोगों के लिए आरक्षण की व्यवस्था इसी सदन ने की। दोनों सदनों के सभी सांसदों को इसका श्रेय मिलना चाहिए। आने वाली पीढ़ियां इन सब कामों के लिए इस सदन को धन्यवाद देंगी। पीएम ने कहा, ‘सभी सांसदों ने अपने-अपने ढंग से मेरी मदद की, उनका धन्यवाद। मुलायम सिंह जी का विशेष स्नेह के लिए धन्यवाद। सदन में काम करने वाले सभी कर्मियों का भी धन्यवाद।’

धोखा, डींग और धमकी है मोदी सरकार का सिद्धांत : सोनिया गांधी

NEW DELHI: कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने बुधवार को एक ओर जहां मोदी सरकार पर ‘‘धोखा, डींग और धमकी’’ को अपने शासन का सिद्धांत बनाने का आरोप लगाया, वहीं प्रतिद्वंद्वियों का ‘‘सामने से मुकाबला करने को लेकर’’ अपने बेटे राहुल गांधी की तारीफ भी की। कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए सोनिया गांधी ने अपने बेटे और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि राहुल संगठन में नई ऊर्जा लेकर आए हैं और उन्होंने ऐसी टीम बनाई है जिसमें अनुभव और युवा जोश का सही तालमेल है।

 

केन्द्र पर हमला तेज करते हुए सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि देश में डर और संघर्ष का माहौल बना हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘हम नए आत्मविश्वास और निश्चय के साथ आगामी लोकसभा चुनाव में उतर रहे हैं। राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में हमारी जीत ने नई आशा दी है।’’ इस बैठक में अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद सहित अन्य लोग शामिल हुए। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे प्रतिद्वंद्वियों को पहले अजेय बताया जाता था। कांग्रेस अध्यक्ष ने सामने से डटकर उनका मुकाबला किया, हमारे लाखों कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया जिन्होंने उनके साथ मिलकर अपना सबकुछ दिया। हम वहां जीते जिन्हें उनका गढ़ माना जाता था।’’

 

मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए सोनिया गांधी ने कहा, ‘‘हमारे लोकतांत्रिक गणराज्य, धर्मनिरपेक्ष गणराज्य की नींव पर मोदी सरकार योजनाबद्ध तरीके से हमले कर रही है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार द्वारा संविधान के मूल्यों, सिद्धांतों और प्रावधानों पर लगातार हमले किए जा रहे हैं। संप्रग अध्यक्ष ने कहा, ‘‘संस्थाओं को बर्बाद किया जा रहा है, राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को निशाना बनाया जा रहा है, असहमत लोगों को दबाया जा रहा है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का गला घोंटने का प्रयास किया जा रहा है।’’ सोनिया गांधी ने आरोप लगाया, ‘‘धोखा, डींग और धमकी मोदी सरकार के सिद्धांत बने हुए हैं। सच्चाई और पारदर्शिता को एकदम दरकिनार कर दिया गया है।’’

 

संप्रग अध्यक्ष ने कहा कि पिछले पांच साल देश के लिए बेहद आर्थिक और सामाजिक दबाव वाले रहे हैं। मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना करते हुए सोनिया गांधी ने कहा, ‘‘पूर्वोत्तर जल रहा है। अलगाववाद चरम पर है। दलितों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जा रहा है। किसान अभूतपूर्व दुख में हैं। अभूतपूर्व पैमाने पर रोजगार नष्ट होने से युवा सूनी आंखों से बाट जोह रहे हैं।’’ वर्ष 2017 में पार्टी की कमान संभालने के बाद राहुल गांधी द्वारा दिखाई गई नेतृत्व क्षमता की भी सोनिया गांधी ने तारीफ की।

 

उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने (राहुल गांधी) अथक परिश्रम किया है। वह उन राजनीतिक दलों से भी संपर्क कर रहे हैं जिनका भारत के प्रति दृष्टिकोण हमारे जैसा है, जो पूर्ण सामाजिक न्याय के साथ तेज आर्थिक विकास चाहते हैं, जो किसानों और खेत मजदूरों, महिलाओं और युवाओं, संगठित और असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के कल्याण हेतु हमारे एजेंडे को मानते हैं।’’ राहुल गांधी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि संसद में कांग्रेस संसदीय दल की बैठक हुई जहां देश के महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई।

 

उन्होंने लिखा, ‘‘ऐसे में जब इस संसद का कार्यकाल समाप्त होने को है, मैं संसद में अपने कांग्रेस भाइयों और बहनों से मिले समर्थन और प्रेम के लिए उनका आभारी हूं। उनके कठिन परिश्रम और समर्पण के लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं।’’ बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि देश की जनता बुद्धिमान है और वह जानती है कि ‘जुमलेबाजी’ एक संवेदनशील और जवाबदेह शासन का विकल्प नहीं हो सकती है। जनता जानती है कि ‘‘भूल-भुलैया, मंच प्रबंधन और प्रबंधन के टोटके’’ जिम्मेदार और जवाबदेह शासन का विकल्प नहीं हो सकते हैं।

 

उन्होंने कहा कि जनता ने उनसे बोले गए झूठ का नतीजा देखा है और उसे अनुभव किया है। सोनिया गांधी ने कहा, ‘‘हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के पास असीम संसाधन हैं। वे कोई लिहाज नहीं करेंगे और हमें आगे बढ़ने से रोकने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। हम उन्हें सफल नहीं होने देंगे। हम उनका मुकाबला करेंगे। हम अपनी पूरी ताकत लगाकर उनके खिलाफ लड़ेंगे।’’ उन्होंने दावा किया कि संसद बेहद कमजोर हो गई है और वहां चर्चाओं और बहस का गला घोंटा जा रहा है।

 

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि स्थाई समितियां खत्म सी हो गई हैं। दोनों सदनों में चर्चा और छंटनी से बचने के लिए धन विधेयक का रास्ता अपनाया जा रहा है। वही धन विधेयक जिसे उच्चतम न्यायालय के एक न्यायाधीश ने ‘संविधान के साथ फर्जीवाड़ा’ कहा था।