NEW DELHI. भारतीय रेल ने आज अपने फ्लैगशिप उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक (यूएसबीआरएल) प्रोजेक्ट के एक भाग के रूप में कटरा-बनिहाल सेक्शन पर चिनाबनदी के ऊपर निर्माणाधीन प्रतिष्ठित पुल पर पुल की मेन आर्च की लाँचिंग के साथ एक नया इतिहास बनाया। चिनाब निर्माण स्थल पर आज प्रातः  एमकेगुप्ता, सदस्य इंजीनियरिंग, रेलवे बोर्ड,  एके सचान, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी, यूएसबीआरएल के तत्वावधान में आयोजित एक समारोह में मुख्य वृत्तखण्ड (मेन आर्च)  को लाँच किया गया। मुख्य वृत्तखण्ड (मेन आर्च) की अवस्थापना एक उल्लेखनीय प्रयास है जैसा कि यह पुल के दोनों किनारों अर्थात् कौडीछोर एवं बक्कल छोर से हेवी सेंगमेंट ले जाने में सक्षम है और इसमें विशेष रूप से विश्व का सबसे लम्बा केबल क्रेन प्रयोग किया गया । इस ऐतिहासिक अवसरपर निर्माण कार्य के भागीदारों के साथ केआरसीएल और उत्तर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। बेहद दिलचस्प बात यह है कि यूएसबीआरएल प्रोजेक्ट के कटरा-बनिहाल खण्ड पर चिनाब पुल 359 मी. ऊचांई पर विश्व का सबसे ऊचां आर्च ब्रिज है।परियोजना के विभिन्न चरणों में विश्व  प्रसिद्ध राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सलाहकारों को नियुक्त किया गया है। विस्तृत भू-भौतिकी अध्ययन, भूकंपीय अध्ययन,स्लोप स्टेबिलीटी रिपोर्ट इत्यादि इसके निर्माण का हिस्सा है । यह अद्वितीय पुल कुतुब मीनार से लगभग 5 गुना ऊंचा और एफिल टॉवर से लगभग 35 मी.ऊंचा होगा। विश्व में पहली बार, ब्लास्ट लोड के लिए पुलका डिजाईन डी.आर.डी.ओ के परामर्श से किया गया है। पुल का संस्थापन अपने आप में ही एक बड़ा प्रोजेक्ट हैं । इसको क्रियान्वित करने के लिए नदी के दोनों तरफ खंभों को संस्थापित किया गया और इन खंभों पर स्थाई आग्जिलरी रोप को खींचने केलिए दो ऑक्जिलरी स्व-चालन केबल क्रेन स्थापित की गई। रोप का उपयोग वृत्त खण्ड भाग की सहायता के लिए किया गया। नदी के अनुप्रवाह की तरफचिनाब के दोनों तटबंधों में हार्ड चर्टी डोलोमाइट और क्वार्टजाइट स्टीप क्लिफ हैं। पुल के प्रत्येक भाग का लाँचिंग धीरे-धीरे क्रमबद्ध तरीके से की जाती है ताकि प्रत्येक नये जोडे जाने वाले अतिरिक्त भाग को सुपर सट्रक्चर के […]

Read More

बारह ज्योर्तिलिंग में से एक उज्जैन में पौराणिक और आध्यामिक आस्था के केन्द्र भगवान महाकाल को संरक्षित करने के लिए ये नये कदम उठाए गए हैैं।

Read More

आदिवासी क्षेत्रों में ब्लाउज फ्री साड़ी पहनने का चलन सदियों से चला आ रहा है।

Read More

अब तक न जाने कितने कर्मचारी फेल होने के बावजूद बाबू से अफसर बन गए, जो रेल संचालन का हिस्सा बने हुए हैं।

Read More

मेट्रो स्टेशन के आसपास रहने वाले लोगों के जीवन में व्यापक स्तर पर सुधार आए।

Read More

आईआरसीटीसी के जरिये ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुक कराने पर 20 से 40 रुपये प्रति टिकट का सेवा शुल्क लगता है।

Read More

11 महिला बुकिंग क्लर्क, पांच आरपीएफ कर्मियों, सात टिकट चेकर्स शामिल किए गए हैं.

Read More

(KHUSHBOO PANDEY) नई दिल्ली। लंबे समय से भ्रष्ट्राचार और कालाधन के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ रहे आईपीएस जसवीर सिंह ने भ्रष्ट्राचार रूपी सिस्टम पर मोटा हथौड़ा चलाने के लिए एक अनोखी पहल शुरू की है। जसवीर सिंह ने देश के युवाओं और किसानों का आह्वान करे हुए उनको नींद से जगाने और आगे बढ़कर देश […]

Read More

गृह मंत्रालय ने आईपीएस अधिकारियों की पदोन्नति से पहले एक अनिवार्य कदम के रूप में उनकी शारीरिक फिटनेस की सिफारिश की है,

Read More