दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी में हुआ अब टैंट घोटाला  

NEW DELHI.  दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में आज एक नया घोटाला उजागर हुआ है। पहले 82 हजार पुस्तक का घोटाला फिर वर्दी घोटाला, और अब नये तरह का टेंट घोटाले का पर्दाफाश हुआ है। लाखों रुपये के इस नये घोटाले का खुलासा दिल्ली कमेटी के पूर्व महासचिव एवं वर्तमान सदस्य गुरमीत सिंह शंटी ने शुक्रवार को किया।
शंटी ने मीडिया के समक्ष एक आडियो टेप भी जारी किया, जिसमें कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके, कमेटी के निलंबित चल रहे जनरल मैनेजर हरजीत सिंह सूबेदार एवं धर्म प्रचार कमेटी के चेयरमैन परमजीत सिंह राणा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। शंटी ने ही कमेटी में अब तक के सभी घोटालों, एवं भ्रष्ष्टाचार का खुलासा किया है।   
–कमेटी के पूर्व महासचिव गुरमीत सिंह शंटी  ने किया खुलाया, आडियो टेप जारी 
–कमेटी अध्यक्ष पर आरोप, निगरानी में हुआ 1.5 करोड़ का टैंट घोटाला : शंटी 
–घोटाले में अध्यक्ष, धर्म प्रचार कमेटी के चेयरमैन और जनरल मैनेजर शामिल 
    कमेटी के पूर्व महासचिव गुरमीत सिंह शंटी ने सबूत के तौर पर एक ऑडियो क्लिप जारी करते हुए रमन टैंट हाउस के मालिक तलवार सिंह की बातचीत का खुलासा किया है। इसमें यह कबूल किया कि उसने 1.5  करोड़ रुपए के नकली टैंट के बिल कमेटी के तत्कालीन जनरल मैनेजर हरजीत सिंह सूबेदार तथा कमेटी अध्यक्ष मंजीत सिंह जी.के. के कहने पर बनाये। उस ऑडियो में तलवार ने ये भी कबूल किया कि गुरद्वारा कमेटी के टैंट  का काम लेने के लिए 10 लाख रुपए की  रिश्वत मंजीत सिंह जी.के. को देने के लिए धर्म प्रचार कमेटी के चेयरमैन परमजीत सिंह राणा ने कहा था। शंटी ने कमेटी अध्यक्ष मंजीत सिंह जी.के. को खुली चुनौती देते हुए कहा कि अगर मेरे आरोप झूठे हैं तो जी.के. मेरे साथ टी.वी.  पर लाइव बहस कर सकते हैं। शंटी ने कहा की घोटालों की  लिस्ट अभी खत्म नहीं हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि मंजीत सिंह जी.के. पूरी तरह भ्रष्टाचार में लिप्त हंै। लिहाजा, उन्हें कुर्सी पर बैठने का कोई अधिकार नहीं है। 
 
कर्मचारियों ने माना, दबाव डालकर बनवाए नकली बिल 
    गुरमीत सिंह शंटी ने कहा कि कमेटी अध्यक्ष ने गुरुघर में चोरी की है, लिहाजा, अब वह बच नहीं सकते। उनके खिलाफ भ्रष्ष्टाचार एवं घोटालों को अदालत ने भी बड़ी गंभीरता से लिया है। इसपर सुनवाई के लिए अगली तारीख 7 दिसंबर मुकरर्र की है। शंटी ने यह भी बताया कि पुलिस बावा प्रिंटर और जोगिन्दर सिंह प्रिंटर के बयान ले चुकी है, जिसमें नकली बिल सूबेदार हरजीत सिंह के कहने पर बनाने की बात कबूल की है । प्रिटिंग प्रेस प्रकाशकों के अलावा दिल्ली पुलिस ने दिल्ली कमेटी के कर्मचारी, जनरल मैनेजर धरमिंदर सिंह, परमिंदर सिंह प्रिंटिंग इंचार्ज, प्रभजीत सिंह केशियर के भी बयान दर्ज कर लिए हैं। कर्मचारियों ने यह कहा है कि हमारे ऊपर दबाव डाल कर नकली बिल बनवाये गए हैं।
 
स्कूलों में 3 महीने से वेतन नहीं, पाकिस्तान में बनाएंगे सराय  
 
 कमेटी के पूर्व महासचिव शंटी  ने कहा कि मंजीत सिंह जी.के. संगत को गुमराह कर रहे हैं। 3 महीनों से कमेटी से जुड़े गुरु हरकृष्ण पब्लिक स्कूल के स्टाफ को तनख्वाह नहीं मिली और जी.के. पाकिस्तान के प्रधान मंत्री को चिटठी लिखकर करोड़ों रुपयों की सराय बनाने की बात कर रहे हैं। शंटी ने पूछा कि पाकिस्तान में सराय बनाने के लिए आपके पास करोड़ों रुपए हैं, लेकिन दिल्ली की गरीब संगत के लिए बाला साहिब हॉस्पिटल शुरू करवाने के लिए पैसे नहीं है। यह सरासर सिखों को गुमराह करने का काम कर रहे हैं। 
 
कमेटी ने सभी आरोपों को किया खारिज 
उधर, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने गुरमीत  शंटी के आरोपों को खारिज किया है। साथ ही कहा कि सभी आरोप झूठे व काल्पनिक हैं। कमेटी के प्रवक्ता परमिंदर पाल ङ्क्षसह ने कहा कि फोन वार्ता कर रहें दोनों लोगों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया जाएगा। जानबूझकर कमेटी की प्रतिष्ठा को खराब करने की साजिश रची गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *