गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष GK पर न्यूयार्क में हमला! 

NEW DELHI.  दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके पर न्यूयार्क में खालिस्तानियों ने हमले की कोशिश की है। हालांकि, जीके को कोई नुकसान नहीं हुआ है, लेकिन उनके साथ रहे लोगों के साथ मारपीट जरूर हुई है। इस हमले के पीछे प्रमुख वजह पंजाब में पिछले दिनों गुरुग्रंथ साहिब की हुई बेअदबी को कारण बताया जा रहा है। पंजाब की पूर्व अकाली सरकार के खिलाफ विदेशी सरजमी पर रह रहे चरमपंथी सिख संगठनों में गुस्सा है। सिख फॉर जस्टिस ने ऐलान किया हुआ है कि अकाली दल का कोई भी सदस्य अमरीका में आएगा वह उसका विरोध होगा। उसी गुस्से का शिकार आज सुबह मंजीत सिंह जीके हुए हंै। बता दें कि मंजीत सिंह जीके इन दिनों विदेश दौरे पर गए हैं। जीके पर हुए हमले के कोशिश की दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी ने निंदा की है। साथ ही इसके लिए सिख फॉर जस्टिस को दोषी करार दिया है। कमेटी ने कहा कि इस संगठन ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे में हमला किया है।
 
–पंजाबी कार्यक्रम में भाग लेने गए थे, खालिस्तानियों ने की घेरेबंदी  
–आईएसआई की शह पर सिख फॉर जस्टिस ने किया हमला : कमेटी
–पंजाब में गुरुगंथ साङ्क्षहब की बेअदबी के लिए अकाली को दोषी मानते हैं चरमपंथी संगठन 
    बता दें कि मनजीत सिंह जीके न्यूयार्क में जस पंजाबी के मशहूर कार्यक्रम आज का मुद्दा में लाइव टेलीकास्ट प्रोग्राम में हिस्सा लिया था। जैसे ही यह प्रोग्राम खत्म करके वह जस ब्रॉडकास्टिंग के दफ्तर के बाहर निकले और अपनी कार में बैठने लगे तो वहां पहले से मौजूद एक कार में बैठे 8 से 10 लोगों ने उनको घेर लिया और गालियां देने लगे। मनजीत सिंह जी के द्वारा विरोध करने पर उन्होंने जीके और उनके साथ आए उनके रिश्तेदार पर हमला बोल दिया। इस दौरान हाथापाई के चलते उनके साथी को नीचे गिरा दिया, जिससे उनकी पगड़ी भी खुल गई। यहां तक की मौजूद महिला रिश्तेदार के साथ भी धक्का मुक्की की।
  एक दिन पहले भी गुरुद्वारा मक्खन शाह लुभाना में आयोजित गुरमत समागम में जीके को बोलने से रोकने की कोशिश की थी। पर उसमें उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी।
चरमपंथियों पर हमला बोला
   इधर दिल्ली में कमेटी मुख्यालय में  महासचिव मनजिन्दर सिंह सिरसा एवं कार्यकारी अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका ने चरमपंथियों पर जमकर हमला बोला है। साथ ही कहा कि शरारती तत्वों द्वारा आई.एस.आई. की फंडिंग के सहारे जी.के. पर हमला करवा करके जस्टिस का नेता गुर पतवंत सिंह पन्नू बेनकाब हो गया है। सिरसा ने कहा कि ये वे लोग हैं जो कौम के कातिलों को अमरीका में सिरोपा देते हैं और विरोध नहीं करते, जबकि कौम की लड़ाई लडऩे वाले कौम के वफादार सिपाही जी.के. का विरोध करके अपनी बिकाऊ मानसिकता को दिखा रहे हैं।
सिखों द्वारा जी.के. के साथ दिखाई जा रही हमदर्दी
  सिरसा ने दुनिया भर के सिखों द्वारा इस मसले पर जी.के. के साथ दिखाई जा रही हमदर्दी के लिए समूची कौम का धन्यवाद किया है। साथ ही श्री गुरू गं्रथ साहिब की बेअदबी के बारे सवाल पूछने वाले लोगों को 1984 में कांग्रेस द्वारा पावन स्वरूपों की करवाई गई बेअदबी के बारे में बोलने की सलाह दी। अकाली नेताओं ने पत्रकारों को बताया कि इस मसले पर दिल्ली स्थित अमरीकी दूतावास के अधिकारियों के साथ मिलने के लिए समय मांगा गया है। साथ ही केन्द्रीय गृहमंत्रालय तथा केन्द्रीय विदेश मंत्रालय के साथ भी हम संपर्क में हैं, ताकि दोषी लोगों को कानून अनुसार सजा मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *