पाक आर्मी प्रमुख से गले मिले सिद्धू, भड़की भाजपा 

NEW DELHI. पूर्व क्रिकेटर एवं पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान दौरे और इस दौरान पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा से गले मिलने पर देश में सियासी बवाल खड़ा हो गया है। देश की सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी ने इसको लेकर कांग्रेस पार्टी और सिद्धू पर हमला बोला है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डा. संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी द्वारा अपराध हुआ है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से नवजोत सिंह सिद्धू को सस्पेंड करने की मांग की है।
–भाजपा ने कांग्रेस पर किया अटैक, कहा-बड़ा अपराध हुआ
—राहुल गांधी क्या सिद्धू को सस्पेंड करेंगे, स्पष्ट करें 
   संबित पात्रा ने कहा कि क्या कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी सिद्धू के बयानों और उनके आचरण से सहमत है या नहीं? अगर सहमत नहीं है तो उनके खिलाफ क्या कार्रवाई की जाएगी और क्या कांग्रेस पार्टी से उन्हें सस्पेंड किया जाएगा? उन्होंने कहा कि सिद्धू उससे गले मिलते हैं, जिसके कारण भारत में निर्दोष लोगों की जानें जाती हैं और सेना के जवान शहीद होते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता पाकिस्तान के आर्मी चीफ से गले मिलते हैं जो भारत में आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार हैं। प्रवक्ता ने आगे पूछा कि क्या नवजोत सिंह सिद्धू ने इमरान खान के शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए पाकिस्तान जाने से पहले कांग्रेस पार्टी से अनुमति ली थी।
पीओके के तथाकथित अध्यक्ष मसूद खान के बगल में बैठे
   भाजपा नेता संबित पात्रा ने सिद्धू के पीओके के तथाकथित अध्यक्ष मसूद खान के बगल में बैठने को लेकर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि सिद्धू मना कर सकते थे। जो हिस्सा हमारे देश का है, उसके तथाकथित अध्यक्ष के साथ नहीं बैठना चाहिए था। पात्रा ने कहा कि सिद्धू एक सामान्य व्यक्ति नहीं हैं। वह एक पार्टी के सदस्य होने के साथ ही पंजाब के मंत्री भी हैं। उन्होंने दावा किया कि बैठने के प्रोटोकॉल के अनुसार सिद्धू को पीओके के अध्यक्ष के बगल में नहीं बैठना था। पहले दोनों को अलग-अलग बैठाया गया था। मसूद पीछे बैठे थे, बाद में उन्हें पीछे से उठाकर सिद्धू के बगल में बैठाया गया।
कांग्रेस के लोग पहले भी पाकिस्तान के पक्ष में बातें करते रहे
   भाजपा नेता संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के लोग पहले भी पाकिस्तान के पक्ष में बातें करते रहे हैं। उन्होंने 13 नवंबर 2015 को सलमान खुर्शीद के उस बयान का जिक्र किया जिसमें उन्होंने पाकिस्तान में आयोजित एक सेमिनार में कहा था कि मोदी शांति नहीं चाहते हैं। इसके दो दिन बाद मणिशंकर अय्यर ने पाक में कहा था कि मोदी सरकार को हटाना होगा। पात्रा ने आगे कहा कि हाल में 21 जून 2018 को गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सेना एक आतंकी को मारती है और 20 नागरिक मारे जाते हैं। सैफुद्दीन सोज भी इसी तरह का बयान देते हैं। अब सिद्धू ने वही भाषा बोली है। उधर, इसको लेकर दिल्ली के सिख नेताअेां ने भी हमला बोला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *